शिक्षा दिवस पर हिंदी स्लोगन - Hindi Slogans on Education

शिक्षा दिवस पर हिंदी स्लोगन – Hindi Slogans on Education

Hindi Slogans on Education:

१. शिक्षा का जीवन में महत्त्वपूर्ण योगदान, प्राप्त हो जीवन में उचित स्थान ।

२. देश में शिक्षा पर दिया है ज़ोर, अब हर बालक को है पढ़ने की होड़ ।

३. शिक्षा से सब बनें जागरूक,  इससे बदले विकास का रुख ।

४. सुशिक्षित हो देश हमारा, ज्ञान के प्रकाश से हो उजियारा ।

५. अज्ञानता से हटेगा आवरण, जब हो भीतर शिक्षा का अंकुरण ।

६. शिक्षा का नहीं है कोई मोल, है जीवन की भाँति अनमोल ।

७. पाएँ नैतिक मूल्यों का ज्ञान, शिक्षा का अधिकार सबको समान ।

८. शिक्षा है जीवन में आवश्यक, बने यह हमारा पथ-प्रदर्शक ।

९. सभी को मिले सामान शिक्षा, न रहे कोई वंचित ।

    राष्ट्र का उत्थान हो, गाएँ सभी यह गीत ॥

१०. आपसी मतभेदों को भूलकर, चलो हम मिलकर यह दोहराऐं,

      मिलकर प्रण करें हम सब और शिक्षा, जन-जन तक पहुँचायें ॥

११. अच्छी सोच ही उच्च शिक्षा।

१२. पुस्तकी ज्ञान बढ़ाये अभिमान, रखें इस बात का ध्यान ।

      बने सब शिक्षित और ज्ञानवान, बढ़ेगी हमारे देश की शान ॥

१३. शिक्षित व्यक्ति की पहचान, समाज में मिले सम्मान ।

१४. शिक्षा से हो ज्ञान का उदय, आये व्यक्तित्व में समन्वय ।

१५. उच्च शिक्षा ग्रहण करें, जिज्ञासा का समाधान करें ।

१५. शिक्षित युवा वर्ग हो, देश की प्रगति में सहभाग हो ।

१६. शिक्षित युवा आगे आओ, देश को विकसित बनाओ ।

१७. शिक्षा के पश्चात आवश्यक है, कौशल का विकास ।

जिसे यह दोनों प्राप्त हों, वही सबमे ख़ास ॥

Related:  धैर्य पर हिंदी स्लोगन - Be Patient Quotes

Hindi Slogans is India’s First Platform with an intent to spread awareness in the society through slogans. Having published slogans on social issues like Save Environment, Save Water, Avoid Pollution, Education, Women Empowerment, etc both at locally & globally. We add value by consulting and providing inputs on Slogans & promotional lines to various organizations and companies.

5 Comments

  • loading...
  • MUNIRAM GEJHA

    जब मनुष्य की कछ जातियों द्वारा बहुत बडे समुदाय का प्रकृति के साथ बढते हुए गयान व परिवर्तन को सदियों तक रोक दिया जाता है जब वह समुदाय गयान अर्जित करता है और भारतीय संविधान लिखकर अपने आप को विश्व गुरु के सथम के रूप में स्थापित करता है

    मुनिराम गेझा (एक और विचारक)

  • MUNIRAM GEJHA

    मैं जिस मार्ग पर चलकर जिस व्यक्ति का मार्गदर्शन करता हूँ मैं उस व्यक्ति को अपने चरणों में नहीं बल्कि उस मार्ग का कीर्तिमान के रूप में देखना चाहता है
    मुनिराम गेझा (एक और विचारक)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.